blogid : 318 postid : 825379

आपकी मेहनत की कमाई का बड़ा हिस्सा ले जाते हैं ये

Posted On: 28 Feb, 2015 बिज़नेस कोच में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कौन नहीं चाहता कि उसके पैसे बचें! महीने भर की कमाई जब हाथ में आती है तो लोगों की खुशी बढ़ जाती है. लेकिन कई चीज़ों पर जब अत्यधिक कर चुकानी पड़ती है तो कलेजा मुँह को आ जाता है. अगर ऐसा हो कि रोजमर्रा की कई चीज़ों पर से कर का बोझ हटा दिया जाय तो अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा हम बचा पायेंगे. यहाँ हम कुछ ऐसी चीज़ों की सूची दे रहे हैं जिन पर से हर कोई कर का बोझ हटाना पसंद कर सकता है.


money1


सिनेमा


सिनेमा मनोरंजन का लोकप्रिय साधन है और भारत में सिनेमा देखने वाले दर्शकों की भी कमी नहीं है. लेकिन इस पर लादा गया कर इसे हर व्यक्ति की पहुँच से दूर कर देता है. ज्यादातर लोग महँगी टिकटों की वजह से सिनेमाघरों तक नहीं पहुँच पाते और इसे डाउनलोड करके या पाइरेटेड सीडी लाकर देखने पर मज़बूर होते हैं. सिनेमा पर कर न लगने की स्थिति में यह काफी सस्ती हो जायेगी और ज्यादा से ज्यादा लोगों के लिए मनोरंजन का यह साधन सस्ता हो जायेगा.


MULTIPLEX-INDIA/


Read: सावधान ! फेसबुक प्रयोग करने पर चुकाना पड़ सकता है कर


रेस्त्रां में भोजन


अवकाश के दिनों में लोग बाहर किसी रेस्त्रां में भोजन करने जाते हैं. रेस्त्रां जाने का एक कारण यह भी है कि लोग रोज घर का खाना खाकर अपनी जीभ का स्वाद बदलने की चाह रखते हैं. लेकिन रेस्त्रां में भोजन करने का मजा तब फ़ीका पड़ जाता है जब हमारी नज़र भुगतान रसीद पर जाती है. इसमें भोजन की कीमत के साथ लोगों को कर भी चुकाना पड़ता है जो रेस्त्रां में बने भोजन को महँगी बना देती है.


tax on food


पेट्रोल


भारत युवाओं का देश है. अधिकांश युवक और युवतियाँ बाइक और स्कूटी की सवारियाँ करते हैं. ये दोपहिये वाहन पेट्रोल पर निर्भर हैं. लेकिन अपने देश में पेट्रोल की कीमतें सदैव आसमान की ओर ताकती रहती हैं. अंतर्राष्ट्रीय बाज़ारों में कच्चे तेल की कीमतों में कमी के बावजूद भारत में इसकी कीमतें केवल 1 रूपए या दो रूपए कम होती है. दरअसल पैट्रोलियम पदार्थों और विशेष रूप से पेट्रोल पर लोगों को भारी कर चुकाने पड़ते हैं. सोचिये अगर इन पर से नये साल में कर को हटा दिया गया तो इन वाहनों की पहुँच दूर-दराज के गाँवों में रहने वाले लोगों तक होगी. मोदी सरकार युवाओं की सरकार है और युवाओं को उनसे काफी उम्मीदें हैं.


81270399


कपड़े


युवाओं के कारण हमारे देश के लोगों के पहनावे में बीते दशकों में काफी परिवर्तन आया है. फॉर्मल पतलून की जगह अब जींस और फॉर्मल बुशर्ट की जगह अब टी शर्ट्स ने ले ली है. युवा अंधाधुंध पश्चिम का अनुकरण करते जा रहे हैं जिससे पश्चिमी कपड़ों ने भारतीय बाज़ार में अपनी पकड़ बना ली है. लेकिन ऐसे कपड़े अब भी कई लोगों के बजट में नहीं हैं. ब्रांडेड चीज़ें न ख़रीद पाने वाले लोगों के उसी ब्रांड के नाम से कम पैसों में मिल जाने वाले कपड़ों का बाज़ार भी अस्तित्व में है. यहाँ भी लोगों जिनमें से ज्यादातर युवा होते हैं की काफी भीड़ होती है.


Read more:

इस बजट ने बचा ली लाज नहीं तो कटोरा लेकर घूमता भारत


गाढ़ी कमाई का एक हिस्सा जो आपको कुर्बान कर देना पड़ता है


अमीर बनने की चाहत रखने वालो के लिए क्यों है दिसंबर का महीना खास



Tags:                                                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Kamal Srivastav के द्वारा
May 20, 2015

पिछले 15 वर्षों में अनेकक्षेत्रों मे अभूतपूर्व सुधार वा क्रांति आई है, चाहे वह टेलिकॉम हो या बॅंकिंग परंतु खेद की बात है की लोग इन्वेस्टमेंट प्पलान्निंग में अभी भी बैंक सावधि जमा या पोस्ट ऑफीस के अतिरिcक्त कोई अन्या बेहतर उपलब्ध विकल्प नहीं अपनाते हैं, यदि वास्तव में आप कैपिटल सेफ्टी की गारंटी के साथ, कम से कम बैंक के फिक्स्ड डिपाजिट रेट से पांच गुना, इंटरेस्ट कमाना चाहते हैं तो पूर्ण विश्वास के साथ संपर्क करें पूर्णतः इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है, कोई एमएलएम, नेटवर्क मार्केटिंग नहीं: बैंक एफडी इंटरेस्ट तो इन्फ्लेशन को भी कवर नहीं करता, साथ में डिपाजिट स्प्लिट करने और टीडीएस बचाने के लिए बार बार फॉर्म १५ ह १५ ग भरो या टैक्स कटवाकर रिफंड के लिए परेशान हो. संपर्क – कमल श्रीवास्तव 09825869434 या मेरे फ्ब पेज पर अपना संपर्क इनबॉक्स करें.

manoj sehgal के द्वारा
December 31, 2014

ये सिर्फ सोचने की बात है लेकिन ऐसा मोदी सरकार करने वाली नहीं है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran